मुस्कुराती यादें (Muskurati Yaadein): यादे है जो कभी हँसती है, कभी इठलाती है |

Home » Shop » मुस्कुराती यादें (Muskurati Yaadein): यादे है जो कभी हँसती है, कभी इठलाती है |

मुस्कुराती यादें (Muskurati Yaadein): यादे है जो कभी हँसती है, कभी इठलाती है |

AUTHOR: Aarti Mittal GENRE: Poetry FORMAT: Paperback

179.00

10 in stock

Also Available On:

मुस्कुराती यादें सफर हैं यादों का जो न मेरी हैं, न तेरी हैं, ये हैं हम सबकी और हम सब के पास यादें बहुत सारी हैं। संजोकर रखी थी कोने में, मैंने उसको सबके सामने पढ़ डाला है।  जिस भी यादों पर हमने पर्दा डाला है। इसमें दर्द के घूँट भी हैं ,इसमें सब्र का सुकून भी है प्रकृति के संग में हर माँ का आँचल भी है। इन यादों के सफर में मैं अकेले न चली , मेरे साथ  हर बात जो शायद हैं अनकही।

नाम से पहचान हो यह काफी नहीं है। मेरा काम मुझे पहचान दिलाये, इसलिए ये मेहनत की है। नाम तो है आरती मित्तल जो खिली बगिया में ३० मार्च १९८४ को। पहचान मिलने आयी द्वार पर प्रभु कृपा से धन्यवाद गुल्लीबाबा टीम का जो सपनो को सच करने में मेरा पूर्ण सहयोग दे रहे हैं। परिवार ने दिया है भरपूर, ये मुझे सौभाग्य मिला है। मैंने ईश्वर को सहृदय धन्यवाद् है। जो पूरा हो रहा सपना ये मेरा सौभाग्य है

Product Details

Book:मुस्कुराती यादें (Muskurati Yaadein): यादे है जो कभी हँसती है, कभी इठलाती है |

Author:Aarti Mittal

ISBN:978-93-90116-56-0

Binding:Paperback

Publisher:Pendown Press Powered by Gullybaba Publishing House Pvt. Ltd.

Number of Pages:96

Language:Hindi

Edition:First Edition

Publishing Year:2022

Category : , ,

10 in stock

SKU: 978-93-90116-56-0 Categories: , ,

Description

“मुस्कुराती यादें” एक ऐसी किताब है जो यादों के उस सफर पर ले जाती है जो न सिर्फ मेरी या आपकी हैं, बल्कि ये वे अनुभव हैं जो हम सभी के दिलों में बसे हैं। ये किताब उन यादों का आइना है जिन्हें हमने जीवन के हर मोड़ पर सहेजा है, और अब उन्हें शब्दों के मोतियों में पिरोकर पूरी दुनिया के सामने रख दिया है।

आरती मित्तल की कलम से निकली इस रचना में हर इमोशन को बारीकी से छूटा गया है, चाहे वो दर्द के घूंट हों या फिर सब्र का सुकून। प्रकृति की गोद में पली-बढ़ी हर माँ की ममता से लेकर उन अनकही बातों तक जिन्हें हमने कभी जुबान नहीं दी, सब कुछ समेटे हुए है यह किताब।

आरती मित्तल एक ऐसी लेखिका हैं जिन्होंने अपने काम के जरिए नाम कमाने की ठानी है, न कि सिर्फ नाम से पहचान। उनके शब्दों में वह सादगी और ईमानदारी है जो पाठकों को अपने साथ जोड़े रखती है। गुल्लीबाबा टीम द्वारा सहयोग प्राप्त करते हुए, आरती ने अपने सपनों को साकार करने की दिशा में एक सार्थक कदम बढ़ाया है।

Additional information

Weight 0.2 kg
Dimensions 22 × 15 × 1 cm

Reviews

There are no reviews yet.

Be the first to review “मुस्कुराती यादें (Muskurati Yaadein): यादे है जो कभी हँसती है, कभी इठलाती है |”

Your email address will not be published. Required fields are marked *